blogid : 319 postid : 482

ऐश्वर्य की गुजारिश में आपत्तिजनक सीन

Posted On: 4 Sep, 2010 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Entertainment Blogजोधा-अकबर और धूम-2 की सफलता के बाद रितिक रोशन और ऐश्वर्या राय बच्चन की सुपर हिट जोड़ी एक बार फिर संजय लीला भंसाली की फिल्म गुजारिश के साथ वापसी कर रहे हैं. परन्तु रीलीज से पहले ही फिल्म के एक सीन पर लोग आपत्ति कर रहे हैं.

गुजारिश का पहला ट्रेलर करण जौहर की फिल्म “’वी आर द फैमिली”’ के साथ आना था जिससे फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली खुश थे लेकिन अब यह ट्रेलर “वी आर द फैमिली” से निकाल दिया गया है और अब फिल्म का पहला ट्रेलर सिद्दार्थ आनंद की फिल्म अंजाना-अंजानी के साथ आएगा.

क्या है यह सीन

“वी आर द फैमिली” से इस सीन के निकाल देने की वज़ह भले “टाइम फैक्टर” बताया गया है परन्तु असली वजह कुछ और ही है. दरअसल फिल्म के एक सीन में ऐश्वर्य राय बच्चन को सिगरेट पीते दिखाया गया है जिसके कारण लोगों को आपत्ति हो रही है.

Entertainment Blogपरन्तु क्या यह आपत्ति उचित है? जबकि गुज़ारिश पहली हिंदी फिल्म नहीं है जिसमें किसी अभिनेत्री ने सिगरेट पिया हो. लेकिन ऐश्वर्य राय बच्चन तो विश्व फिल्म जगत में भारत का प्रतिनिधित्व करती हैं उन्होंने कई हालीवुड फिल्मों में भी काम किया है. इसके अलावा विश्व सुंदरी रह चुकी अमिताभ बच्चन की बहू विश्व में भारतीय महिलाओं का रूप पेश करती हैं जो आधुनिक होने के साथ-साथ अपनी संस्कृति से जुड़ी रहती है अतः क्या उनका यह सीन करना उचित था? और अगर यह सीन नहीं होता तो फिल्म नहीं पूरी हो पाती क्या?

फिल्म के निर्माता सिद्दार्थ कपूर को भले ही इस सीन से आपत्ति न हो परन्तु भारतीय होने के नाते लोगों को ज़रूर है.

फिल्म से जुड़े लोगों का यह कहना है कि वास्तव में ऐश्वर्य ने धूम्रपान नहीं किया है. बल्कि फिल्म के एक दृश्य में उन्होंने ध्रूमपान करने की कोशिश की है. असलियत क्या है यह तो फिल्म देखकर ही पता चलेगा.

| NEXT



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 3.40 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

bkkhandelwal के द्वारा
September 18, 2010

ashiwray amitabachan ki bahu hai yah baat nahi ki unke aisa karney hinudtanki sanskirti galat hogi yeh bhi nahi ki koworld fame horine ho baat hai ashiwrya hindustani hai hindu dahrm ko usney samjha hai tab usko cigrette pina galat hai woh t.v.bahut se progamme host karti aur bachonon ko sahi kaam karney ke liye kahati hain per kabhi ab bachono ko woh koi achi baat baateygi tab ky bachhey nahi kaheynegyey ki khud cigreeate piti haimey banna karr rahi isko pahaley khud sudhrna hoga agar yah sahi film se judey log kahetey hain ki usney cigrete nahi pi yah kewal ek seen jaisey rape ke seen meie rape nahi hota kewal adkari hoti per bachhey kya jaaney ash ne cigreate nahi pi woh kewal seen dey rahi vastav meie galat hai ek itni badi celebetrises asia seen dey kar kya batana chhaiti hai vasiey yah fil jab censor meie jayegi tab iss seen ko roka hi jayega kyunki hamrey desh ke kanoon meie ab iss per rok hai aur ab koi asia karta payajaeyga uss per jurmna hoga kay desh a har aadmi ash per jurmna lagaeyga agar lagta tab 500/- rs.per person se desh ke karoron logon ke hisaab se kya ash yeh zurmana bhar payegi , yayeh baat yahuni uchhal di gayi ho ki iski publicity kar do jab hohalla hoga tab seen kaat diyajayega issey kya fark katdogey agar film mey kuch nahin hoga to deyga kaun issliye acha hi ho ash ko apney upper lagney ke arop se pahley asia nahin karna chhaiye desh ke naami ghareney ki bahu badnam ho aur inkey parviar ko koi bhi programme host karney meie sharmm aaye asia film ko dekhney s phaley public apni priye heroine ko batta deien aap aisi hi rahey to achha rahey

jhingur के द्वारा
September 5, 2010

अरे भईया,जरा दो-चार असफल फिल्मॉ के नाम भी बतलाते तो ज्ञानवृद़्धि हो जाती 

आर.एन. शाही के द्वारा
September 4, 2010

ऐश्वर्या बच्चन के साथ महानायक की प्रतिष्ठा जुड़ी होने से दर्शक थोड़े संवेदनशील हो जाते हैं, यद्यपि कजरारे-कजरारे में ऐश्वर्या ने अमित जी के साथ काफ़ी कम कपड़ों में डांस भी किया था । फ़िर भी वे उनकी बहू हैं, यह भाव हमारे ज़ेहन में कहीं न कहीं होता है । सिगरेट तो उस ज़माने में सायरा बानो ने पूरब-पश्चिम में भी पिया था । फ़िल्मों की वैम्प कही जाने वाली बिन्दु और हेलेन ने भी दर्ज़नों फ़िल्मों में धूम्रपान दृश्य दिये थे । विवाह के बाद ऐश्वर्य को हम ऐसे-वैसे भाव में पचा नहीं पाते, यह हमारी संस्कारगत बाध्यता है ।

Aakash Tiwaari के द्वारा
September 4, 2010

इस तरह के सीन से हमारी संस्कृति पर बुरा प्रभाव पड़ना लाज़मी है क्योंकि कलाकारों का प्रभाव समाज पर पड़ता है . आकाश तिवारी


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran